*सभी धर्मों को समान बताने वाला संविधान धर्म और अधर्म की परिभाषा बताये : श्रीभागवतानंद गुरु

0
134

बिहार के औरंगाबाद जिले में कुटुम्बा प्रखंड के अंतर्गत स्थित पिपरा बगाही के नवनिर्मित सूर्य मंदिर में विशाल धर्मसभा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्राण प्रतिष्ठा हेतु आयोजित होने वाले महायज्ञ के ध्वजारोहण के अवसर पर सनातन धर्म के जाने माने धर्माधिकारी श्रीमन्महामहिम विद्यामार्तण्ड श्रीभागवतानंद गुरु ने धर्मसभा की अध्यक्षता की।

मीडिया प्रभारी ब्रजेश पांडेय ने प्रेस को सूचना दी कि ध्वजारोहण के कार्यक्रम के बाद पूरे समाज के लोग पन्द्रह अप्रैल से सूर्य महायज्ञ में संकल्पित हो गए हैं। उन्होंने यह भी बताया कि आयोजित धर्मसभा में पूरे क्षेत्र के ढाई हजार से अधिक लोगों ने सक्रिय सहभागिता निभाई है।

स्थानीय हिन्दू समाज के सभी वर्गों के महिला एवं पुरुषों ने आस पास के पन्द्रह गांवों से सम्मिलित रूप लेकर 5 किलोमीटर की विशाल शोभायात्रा निकाली। तीन जत्थों में चल रही शोभायात्रा का नेतृत्व घुड़सवार नवयुवक एवं परम्परागत नगाड़ा वादकों ने किया।

नवनिर्मित सूर्य मंदिर की भूमि पहले से ही विवादित एवं हिंसक झड़पों के लिए सुर्खियों में रही है। स्थानीय मुस्लिम समुदाय ने कुछ हिंदुओं की निजी भूमि पर कई दशकों से अतिक्रमण करके कब्रिस्तान बना रखा था जिसके बाद प्रशासन और न्यायपालिका के सहयोग और सामाजिक एकजुटता के बल पर हिन्दू समाज ने उस भूमि को मुक्त कराकर वहां देवालय परिसर की स्थापना की।

इस मौके पर पधारे श्रीभागवतानंद गुरु ने अपने वक्तव्य में कहा कि चारों वर्णों के लोगों ने अपने जान की परवाह न करते हुए जिस सामाजिक एकता और दृढ़ संकल्प का परिचय दिया है वह भविष्य के लिए प्रेरणास्रोत बनेगा। भारतीय संविधान अनेकों धर्मों की बात करता है, किन्तु किसी भी धर्म की परिभाषा ठीक से नहीं बताता। यदि सब कुछ धर्म ही है तो अधर्म की क्या परिभाषा है ?

उन्होंने यह भी कहा कि इस संसार में चार संयोग अत्यंत दुर्लभ हैं। भारत भूमि में जन्म लेना, उसमें भी मनुष्य योनि मिलना, उसके बाद हिन्दू परिवार में जन्म और सबसे बढ़कर अपने धर्म के प्रति अटूट आस्था, ये चारों बल जिसके पर है, वह असम्भव लक्ष्य को भी प्राप्त कर सकता है।

इस मौके पर किसी भी अवांछित घटना से निपटने के लिए कुटुम्बा थाना प्रभारी श्री कमलेश पासवान, अम्बा थाना प्रभारी श्री पंकज पासवान और नबीनगर के पुलिस निरीक्षक अपने पचास से अधिक सुरक्षाकर्मियों के साथ उपस्थित थे।

धर्मसभा के कार्यक्रम में सूर्य मन्दिर आंदोलन में जेल गए हुए पांच लोगों को श्रीभागवतानंद गुरु जी ने आशीर्वाद और अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अरुण जी, धर्म जागरण के राकेश सिन्हा, विश्व हिंदू परिषद के जयनंदन पांडेय, पैक्स अध्यक्ष कुमुद रंजन मिश्र, सूर्य मंदिर समिति के धर्मेंद्र सिंह, संजय सिन्हा, सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here