हिमाचल प्रदेश : बीजेपी 60 से ज्यादा सीट पर जीत दर्ज करेगी- प्रेम कुमार धूमल

0
35

हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश में आज वोटिंग जारी है. सुजानपुर से बीजेपी के सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल मतदान करने पहुंचे जहां उन्होंने कहा कि, बीजेपी 60 से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी. भ्रष्टाचार और कानून व्यवस्था बनाए रखने में फेल रही है. कांग्रेस सरकार का इस बार पूरी तरह से सूपड़ा साफ़ हो जाएगा.

हिमाचल प्रदेश में अबकी बार किसकी सरकार ?

उन्होंने बताया कि, वीरभद्र के अगुवाई वाली सरकार ने प्रदेश में अराजकता को पनपने दिया. पिछले पांच साल में राज्य में कोई भी विकास कार्य नहीं हुआ. सिर्फ भ्रष्टाचार हुए. धूमल ने आगे कहा कि, राज्य की जनता इस दिन का बड़े बेसबरी से इन्तिज़ार कर रही थी. आज वो शुभ दिन आ गया है. प्रदेशवासी अपना मत स्पष्ट करने के लिए पोलिंग बूथ पर पहुंच रहे हैं.
इस बीच वीरभद्र सिंह ने भी जीत दावा करते हुए बोले कि, इस बार मैं छठी बार सीएम बनने जा रहा हूं. कांग्रेस बड़ी जीत दर्ज करने में क़ामयाब होगी. हमने राज्य के लिए कई विकास कार्य किये है. जनता सब जानती है.
हिमाचल प्रदेश
धूमल परिवार
बीजेपी नेता और धूमल के पुत्र अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बोले कि, कांग्रेस का सीएम कैंडिडेट ज़मानत पर चल रहा है. प्रदेश को धूमल जैसे नेता की जरूरत है. जनता ने मन बना लिया है. इस बार प्रदेश में धूमल सरकार.  अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि, धूमलजी के नेतृत्व में जब हिमाचल में सरकार थी. तब प्रदेश विकास के शिखर पर था. राज्य को उस दौर में कई पुरस्कार मिले थे. जनता वहीं प्रदेश एक बार फिर चाहती है. सब जानते हैं धूमलजी और वीरभद्र सिंह कार्यशैली के बारे में.

पढ़े : प्रद्युमन हत्याकांड : सीबीआई 11 वीं के छात्र को गिरफ्तार किया दी जानकारी 

राजनीतिक विश्लेषकों की माने तो,कांग्रेस के नेतृत्व ने हिमाचल को महत्व नहीं दिया. कांग्रेस ने अपना पूरा बल गुजरात चुनाव में झोंक दिया है. तो वहीं बीजेपी का यह स्वभाव रहा है कि, वह हर एक चुनाव को बड़ी गंभीरता से लेती है. इसी लिए प्रधानमंत्री ने हिमाचल में चुनावी रैलीयाँ की.
वरिष्ठ पत्रकारों का कहना है कि, कांग्रस को पता है कि, हिमाचल से ज्यादा महत्वपूर्ण रण गुजरात का है. इसी लिए राहुल गांधी अपनी एड़ी चोटी का जोर गुजरात मे लगा रहे हैं. बीजेपी कभी भी और किसी भी चुनाव में अपना सीएम उम्मीदवार घोषित नहीं करती. लेकिन इस बार बीजेपी ने यह किया और इसका फ़ायदा होता दिख रहा है. तो वहीं कांग्रेस ने पूरा जिम्मा वीरभद्र सिंह पर छोड़ दिया. 
आज हिमाचल प्रदेश में आगामी पांच साल के लिए बीजेपी और कांग्रेस के भाग्य का फ़ैसला मतदाता कर रहे हैं. दोनों दलों ने कुल 68 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं. दोनों ही दलों के जीत दर्ज करने का दावा किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here