कई दिनों से इसे पकडऩे का प्रयास कर रही थी पुलिस, एमपी सप्लाई होता था मांस

0
22

 

Report by Hariom Budhauliya

कोंच – गोकशी और गोमांस तस्करी के एक ताजा मामले में एक स्कॉर्पियो गाड़ी को कोतवाली पुलिस ने ढाई कुंतल गोमांस सहित पकड़ा है। इसी के साथ पुलिस ने दो लोगों को भी मौके से गिरफ्तार किया है जबकि तीन अन्य फरार हो गये। मौके से पशु काटने के तमाम औजार भी पुलिस ने बरामद किये हैं। पकड़ में आई गाड़ी पर हालांकि भाजपा का झंडा भी लगा था जिसे आनन फानन हटा दिया गया लेकिन नंबर प्लेट पर बना भाजपा का लोगो जल्दबाजी में नहीं हट पाया।

 

बताया गया है कि उक्त गाड़ी जालौन के किसी भाजपा नेता की है और रोजाना इस गाड़ी से रात के अंधेरे में गोमांस की तस्करी की जाती थी।
मिली जानकारी के मुताबिक कोतवाली पुलिस और इलाकाई खेड़ा चौकी को इस बात की भनक काफी पहले से थी कि भाजपा का झंडा लगी सफेद रंग की स्कॉर्पियो से प्रतिदिन कुंतलों मांस ले जाया जाता है, लेकिन उक्त गाड़ी सबूत के साथ पकड़ में नहीं आ रही थी। बीती रात मुखबिर की सूचना पर कोतवाल सत्यदेव सिंह, एसएसआई मनोजकुमार सिंह और खेड़ा चौकी इंचार्ज उमेश सिंह ने कसाई मंडी इलाके में बहुत ही गोपनीय ढंग से एक जगह पोजीशन ले ली। कई घंटे के इंतजार के बाद आखिर उक्त स्कॉर्पियो गाड़ी नं. यूपी 92 आर 0388 कैलिया बाईपास के समीप ओमप्रकाश अवस्थी के खेत के पास दिख गई और उसमें मांस लोड हो रहा था।

 

पुलिस ने घेराबंदी करके इसे दबोच लिया। इसी के साथ दो लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है जबकि तीन अन्य मौके से भागने में कामयाब रहे। खेत में पशु काटने के तमाम औजार भी मिले हैं। गाड़ी में तकरीबन दो कुंतल मांस लोड किया जा चुका था तथा एक बोरे में लगभग पचास किलोग्राम मांस लोड होने को पड़ा था। पकड़े गये व्यक्तियों के नाम शहबाज पुत्र लल्लू निवासी हिरदेशाह जालौन (गाड़ी चालक) तथा नूर सफी पुत्र हनीफ निवासी आराजी लेन कोंच हैं जबकि फरार अभियुक्तों के नाम पुलिस ने गोपनीयता के चलते बताने से इंकार किया है। सूत्रों की अगर मानें तो इस गाड़ी को छुड़ाने के लिये पुलिस के पास कई भाजपा नेताओं के फोन भी आये लेकिन चूंकि मामला मीडिया के संज्ञान में आ चुका था और पुलिस किसी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहती थी इसलिये इस गाड़ी को सीज करना पड़ा। यह भी संज्ञान में आया है कि ये गाड़ी कोंच से माल उठा कर सीमावर्ती मध्यप्रदेश में सप्लाई करती थी। गाड़ी किस भाजपा नेता की है, इसकी पड़ताल की जा रही है।

 

एसएसआई मनोजकुमार सिंह का कहना है कि आरटीओ ऑफिस से पता लगाया जा रहा है कि गाड़ी किसके नाम रजिस्टर्ड है, इसके बाद ही मुकदमे में नाम शामिल किया जायेगा। हालांकि बाद में कोतवाल सत्यदेव सिंह ने जानकारी दी कि उक्त गाड़ी जालौन के विकास श्रीवास्तव की है। इस घटना के बाद यहां लोगों में इस बात को लेकर खासा आक्रोश है कि गोरक्षक होने का दावा करने बाले भाजपाइयों की सरपरस्ती में ही मांस का अबैध व्यापार परवान चढ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here