पुणे : भारत बनाम न्यूजीलैंड मैच फ़िक्स !, पिच क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर फंसा

0
46
पुणे भारत व न्यूजीलैंड मैच
भारत बनाम न्यूजीलैंड मैच

पुणे। पुणे के पिच क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर को पिच फिकसिंग करने के शिशिले में बीसीसीआई ने स्टेडियम में जाने पर रोक लगाया गया है. बीसीसीआई क्यूरेटर पिच का जायज़ा लेने स्टेडियम के लिए निकल गए हैं.

स्टिंग ऑपरेशन में फंसा क्रिकेट के गुनाहगार

प्राप्त जानकारी के मुताबिक़, यह स्टिंग ऑपरेशन को आजतक ने अंजाम दिया. पांडुरंग सालगांवकर ने इस स्टिंग में पिच को चेंज करने और महत्वपूर्ण जानकारी को देने के लिए राजी हो गए. उन्होंने कहा कि जिस तरह की पिच चाहिए. उस तरह की मिल जाएगी. स्टिंगकर्ता ने पूछा क्या पिच में उछाल लाया जा सकता है. क्योंकि सट्टेबाज को विकेट में उछाल चाहिए. तो पांडुरंग ने कहा हाँ हो जाएगा.

इसे भी पढ़े: मशहूर कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण में बारे में कुछ बातें

रिपोर्टर ने पूछा क्या आधे घंटे में पिच चेंज कर सकते हो तो, क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर ने कहा, आधे घण्टा तो बहुत है. मैं पांच मिनट में पिच को बदल सकता हूं. करना क्या है. बस पिच पे पानी मरना है. रोलर नहीं करना है. पिच से थोड़ी सी मिट्टी निकाल दी जाए बस काम हो गया.

दिग्गज खिलाड़ीयों ने क्यूरेटर पर कड़ी कार्रवाही की मांग

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि,

“यह मामला गंभीर है. इसे हल्के में नहीं ले सकते हैं. यह क्रिकेट पर गहरा और बड़ा आघात है. ऐसे क्यूरेटर क्रिकेट पर लांछन लगाते हैं. इस मामले में कड़ी कार्रवाही होनी चाहिए”.

हरभजन सिंह ने भी इस मामले पर कड़ी आपत्ति जताई है, उन्होंने कहा कि, ऐसे क्यूरेटर को क्रिकेट के आस पास भी नहीं भटकने देना चाहिए. इस पर सख़्त कार्रवाही कर एक उदाहरण देना चाहिए ताकि, कोई और क्यूरेटर ऐसा करने से पहले सौं बार सोचे.

बीसीसीआई क्यूरेटर ने पिच को सही पाया

ख़बर चलने के बाद ही बीसीसीआई ने पांडुरंग को स्टेडियम में जाने पर रोक लगा दिया. उसके बाद बीसीसीआई के क्यूरेटर क्रिस ब्रॉड पुणे स्टेडियम के लिए रवाना हुए और पिच का निरीक्षण कर पिच को मैच के लिए सही ठहराया है. जिसके बाद बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष सी.के खन्ना ने मैच रद्द होने के सारी अटकलों पर विराम लगते हुए मैच तय समय पर शुरू होने का ऐलान किया.

इसे भी पढ़े: गुजरात : बीजेपी को दोहरा झटका, पाटीदारों को खरीदना चाहती है बीजेपी : निखिल सवानी

यह ख़बर क्रिकेट प्रेमियों को परेशानी में डालने वाला है. ऐसे में धीरे धीरे क्रिकेट के विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो जायंगे. भविष्य सभी होने वाले मैचों को संदेह से देखा जाएगा कही यह फ़िक्स तो नहीं है. यदि बीसीसीआई और आईसीसी को क्रिकेट की लोकप्रियता को बरकरार रखना है तो, ऐसे लोगों को क्रिकेट के परिपेक्ष्य से दूर रखना होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here