34 वर्ष से अपने हक की लड़ाई लड़ रहे चीनी मिल्स सीजनल अस्थाई कर्मचारियो को नही मिला इंसाफ

0
56

Report by Ravindra Pandey

भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष ने प्रमुख सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उधोग उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ को लल्लन सिंह आदि बिषयक प्रपत्रो  शिकायतो की उच्च स्तरीय जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही करने की बात की है लेकिन मामला जस का तस ही बना हुआ है।
आखिर मामला क्या है-सीजनल अस्थाई कर्मचारियो का चीनी मिल्स सुल्तानपुर को लेकर
बताते चले कि किसान सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड जनपद सुल्तानपुर में वर्ष 1983-84 से यहाँ पर कार्य कर रहे सीनियर कर्मचारियो को अधिकारी साठ-गांठ कर या फिर कह सकते है धन उगाही कर नजर अंदाज कर जूनियर कर्मचारियो चीनी मिल्स में परमानेंट कर दिये है जिसके खिलाफ चीनी मिल्स में कार्य कर रहे सीनियर कर्मचारियो लल्लन सिंह,ओम प्रकाश तिवारी,विनोद मिश्र,शिव राम गौड़  आदि चीनी मिल्स के सीनियर कर्मचारियो ने लिखित शिकायत 21.4.17 को किया है कि सीनियर और जूनियर के क्रमवार से चीनी मिल्स में कर्मचारियो को परमानेंट किया जाय जबकि जिन सीजनल कर्मचारियो वर्ष सीजन सत्र 2016-17 में निरन्तर कार्य करने वाले कर्मचारी त्रिनेत्र शुक्ला, शौलेंद्र सिंह,कुंवर बहादुर सिंह,राजाराम यादव,रामशंकर वर्मा,लक्षमण निषाद,शत्रुघन निषाद जयराज यादव द्वारिका निषाद इश्तिखार अहमद धनश्याम विश्वकर्मा व बृजेश श्रीवास्तव का नाम भेजा गया था जिसको लेकर लल्लन सिंह और अन्य चार कर्मचारियो ने सयुक्त शिकायत की है कि इस किसान सहकारी चीनी मिल्स सुल्तानपुर(अवध)में निरन्तर की कोई प्रकिया न तो गतिमान है और न ही पहले इस प्रकार का कोई कार्य किया गया है पुराने कर्मचारी जो इस मिल्स में कार्यकर रहे थे जैसे डिस्पैच हाजिरी लिपिक स्टोर लिपिक लेख लिपिक पदों से सेवा निवृत्त हो जाने के कारण मिल्स में कार्य बाधित न होने की स्थित में मिल्स में कार्यरत सीजनल अस्थाई कर्मचारियो से कार्य कराया जा रहा है जबकि शिकायतकर्ता स्वम मिल्स में तकनीकी विभाग में सीजनल कर्मचारी है को भी आफ सीजन में आवश्यकता पड़ने पर मुख्य अभियंता की मांग के निर्देश पर मिल्स में कार्य पर रखा जाता रहा था जिसके बारे में जनशिकायत जनपद सुल्तानपुर जिलाधिकारी से जनशिकायत संख्या20017917002197 के निस्तारण हेतु की गयी है।वही प्रधान प्रबंधक किसान सहकारी चीनी मिल सुल्तानपुर द्वारा कर्मचारियो को गुमराह करते हुए यह दिखया गया है कि सीजनल कर्मचारियो के नियमित कार्य करने के लिए कोई प्रकिया न गतिमान है न ही पहले इस प्रकार का कार्य किया गया है जिसके संबंध में शिकायतकर्ता का कहना है कि वर्तमान में भी इस तरह की प्रकिया सीजनल कर्मचारियो को भी किया गया है और उनकी सूची में भी हमे दी जाये जिस पर 19.5.2017 को मौजूदा जिलाधिकारी यस राजलिंगम ने मौजूदा जी. यम के.पी. शुक्ल चीनी मिल से सूचना मांगी कि किस नियम के तहत उक्त कर्मचारियो को कैसे निरन्तर किया गया है।

 

जिसपर वे पुराने कर्मचारी मागे गये ब्यौरे पाने पर अचंभित हो गये क्योकि उनको गलत सूचना दी तब  कर्मचारियो ने पुनः सहकारी चीनी मील्स के सीजनल कर्मचारियो ने सुल्तानपुर जिलाधिकारी को 5.6.2017 लिखित शिकायत दिया था जिस पर जी.यम.चीनी मिल से आख्या मांगी गयीं थी कि आखिर हम पुराने कर्मचारियो को निरन्तर किये जाने से क्यो वंचित किया गया जिसका जबाब हम कर्मचारियो को नही मिला और न ही इसपर कोई कार्यवाही की गयी।जबकि कुछ कर्मचारियो को सीजनल किया गया हम कर्मचारियो को जी.यम. चीनी मिल से न्याय मिल पाना असंभव ही है वही चीनी मिल द्वारा लेखाधिकारी लालजी शुक्ल के पुत्र को संविदा पर रखा गया है और चीनी मिल के लेखाधिकारी के दबंगई के बल पर नियम कानून को ताख पर रखकर कुछ अन्य लोगो से मोटी रकम वसूलकर उन्हें भी संविदा पर रख लिया गया है।वही पुराने कर्मचारियो ने कार्यालय जिला गन्नाधिकारी से ऑनलाइन जनसुनवाई के माध्यम से प्राप्त शिकायत सीरियल नंबर 20017917005259  ,29.6.2017 को लल्लन सिंह व अन्य कर्मचारियो को निरन्तर करने के लीए जिलाधिकारी से की है शिकायत की प्रधान प्रबंधक किसान सहकारी चीनी मिल लि. सुल्तानपुर ने अपने कार्यालय पत्र संख्या 386,5.7.2017 के अनुसार रिक्त पदों के स्थान पर हम लोगो को आवश्यकतानुसार मुख्य अभियंता की मांग पर रिपेयर मेंटीनेंस कार्य पर सामयिक कर्मचारियो को स्वीकृत के अनुसार लगाया जाता है।लेकिन ऐसा नही किया गया है ।जब कर्मचारियो को भेजे गये

 

15.4.2017  रजिस्टर्ड डाक द्वारा किसान चीनी मिल सुल्तानपुर में व्याप्त भ्रस्टाचार एवम घोटाले की जांच की मांग के लिए पत्र भेजा गया था जिसके संबंध में केवल जिम्मेदारधिकारी द्वारा न तो जांच हो सकी है और न ही दोषियों के खिलाफ कोई कार्यवाही की गयी है जबकी चीनी मिल सुल्तानपुर के ठेकेदार एवम अन्य पार्टियों को भुगतान दिया जा चुका है  और हम लोगो का जनवरी महीने 2017 से वेतन नही दिया गया है जिसके कारण हम कर्मचारी के बीच भुखमरी की समस्या बनती जा रही है और पैसे के अभाव में इलाज न हो पाने की वजह से कई कर्मचारियो का असामयिक मौत भी हो चुकी है इन कर्मचारियो ने लिखित शिकायत कर न्याय की गुहार लगायी है और कर्मचारियो ने यह भी शिकायत की है कि जबतक ऊँचे रसूक वाले चीनी मिल में तौनात प्रधान प्रबंधक के पी शुक्ल और लेखाधिकारी लाल जी शुक्ल जैसे कर्मचारिओ के करण पेराई सत्र भी चल पाना मुश्किल है इन अधिकारियो के कारण 60000 किसानों को मजबूरी बस प्राइवेट मिलो पर औने पौने दामो में अपने गन्ने की फसल बेचना पड़ सकता है की शिकायत किया गया है और यह भी शिकायत किया है इन भ्रस्ट एवं दोषी आधिकारिओ के रहते हम कर्मचारियो को न्याय मिलना मुश्किल है और इनके रहते चीनी मिल घोटाले का पर्दाफाश होना भी असंभव है हम कर्मचारियो को न्याय तभी मिल सकेगी जब इन आधिकरिओ को यहा से हटाकर इस प्रकरण की जांच की जाय तभी हम कर्मचारिओ को न्याय मिल सकेगी।जिसकी शिकायत पूर्वाचल किसान सहकारी चीनी मिल मजदूर संघ के अध्यक्ष शकील अहमद सुल्तानपुर , मुख्यमंत्रीे उत्तर प्रदेश शासन ,भारतीय जनता पार्टी जगजीत सिंह जिला अध्यक्ष ,उत्तर प्रदेश सहकारी चीनी मिल्स लिमिटेड लखनऊ ,गन्नाप्रमुख सचिव लखनऊ ,पूर्व विधायक अर्जुन सिंह आदि उच्चाधिकारियो से शिकायत कर न्याय की गुहार लगा चुका है लेकिन अभी तक चीनी मिल्स के आधिकारियों की उदासीनता का खामियाजा गरीब कर्मचारी अपनी जान गवाकर उठा रहे है।लेकिन नही मिला इंसाफ।

 

 

इनसेट:1.जिलाधिकारी सुल्तानपुर ने जिला गन्नाधिकारी से जांच रिपोर्ट मांगी जिसमे जिला गन्नाधिकारी ने जिलाधिकारी को यह रिपोर्ट भेजी की न बोर्ड की बैठक बुलाई गयी न ही नियमावली का पालन किया गया और न ही जिलाधिकारी से कोई अनुमोदन लिया गया और सर्वोपरि होकर अस्थाई कर्मचारी को स्थाई कर दिया और सीनियर सीजनल कर्मचारी को बंचित कर दिया गया।आखिर क्यों?

 

2.इस आख्या के बाद अस्थायी सीजनल कर्मचारियो ने पुनः भाजपा पूर्व विधायक अर्जुन सिंह को साथ लेकर जिलाधिकारी सुल्तानपुर को लिखित शिकायत दी और अपनी बातों को उनके सामने रखी ,तब जिलाधिकारी ने कहा कि आप लोगो को न्याय जरूर मिलेगा,हम इस प्रकरण की सारी जानकारी गन्ना शुगर फर्डर्सन लखनऊ (यम .डी) को रिपोर्ट भेज रहे है,एक हप्ते बीतने के बाद अस्थाई सीजनल कर्मचारियो और भाजपा पूर्व बिधायक अर्जुन सिंह ने चीनी मिल्स के यम.डी लखनऊ से मिले अपनी सारी बातों को उनके सामने लिखित दी और पूरी प्रकरण बतायी इस पर यम.डी लखनऊ ने भरोसा दिया कि आप को न्याय जरूर मिलेगा,परन्तु आज तक न ही इनको हटाया गया न ही भ्रस्ट किसान सहकारी चीनी मिल सुल्तानपुर के जी.यम के.पी.शुक्ला, मुख्य लेखाधिकारी(सी.ए) लालजी शुक्ला व जेपी तिवारी पर कोई उचित कार्यवाही की गयी।
3.लालजी शुक्ल किसान चीनी मिल सुल्तानपुर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी के रहने वाले स्थाई अधिकारी है और पहले किसी प्रकरण को लेकर इन्हें निलम्बित भी किया जा चुके है,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here